ICICI Bank ने जारी किए रिकॉर्ड क्रेडिट कार्ड, HDFC Bank पर लगे बैन से हुआ फायदा

मार्च तिमाही में आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने रिकॉर्ड संख्या में क्रेडिट कार्ड (Credit Card) जारी किए. दरअसल, एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) द्वारा क्रेडिट कार्ड जारी करने पर लगे बैन का सबसे ज्यादा फायदा आईसीआईसीआई बैंक को मिल रहा है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank of India) के आंकड़ों के मुताबिक मार्च तिमाही के दौरान आईसीआईसीआई बैंक के कार्डधारकों की संख्या में 6,72,911 की वृद्धि हुई, जबकि इसी अवधि में एचडीएफसी बैंक के पोर्टफोलियो में 322,999 की कमी आई.

दिसंबर 2020 में, आरबीआई ने एचडीएफसी बैंक को बड़ा झटका देते हुए बैंक सभी की डिजिटल सेवाओं पर रोक लगा दी थी. केंद्रीय बैंक ने 2 दिसंबर को एक आदेश जारी करते हुए इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग और पेमेंट यूटिलिटी सर्विस पर रोक लगा दी थी. इसके अलावा केंद्रीय बैंक ने बैंक को नए क्रेटिड कार्ड जारी करने पर भी रोक लगाई थी. पिछले 2 साल में एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों को डिजिटल सर्विस (Digital Services) में कई बार दिक्कत आई है जिसकी वजह से केंद्रीय बैंक ने यह कदम उठाया था.

बैन से पहले एचडीएफसी बैंक पिछले वित्तीय वर्ष के हर महीने एक लाख से ज्यादा क्रेडिट कार्ड ग्राहकों को जोड़ रहा था. एचडीएफसी बैंक भारत का सबसे बड़ा क्रेडिट कार्ड जारी करने वाला बैंक बना हुआ है. मार्च के अंत में एचडीएफसी बैंक के 14.9 मिलियन कार्ड होल्डर हैं. इसके बाद एसबीआई कार्ड 11.8 मिलियन और आईसीआईसीआई बैंक 10.6 मिलियन कार्ड होल्डर हैं.

admin

Admin Is Most Important User to our Website

Next Post

देश में कोरोना संक्रमण के 2,22,315 नए मामले, तीन लाख से ज़्यादा गंवा चुके हैं जान

Mon May 24 , 2021
देश में एक दिन में Covid-19 के 2,22,315 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,67,52,447 हो गई। पिछले 38 दिनों में एक दिन में सामने आए संक्रमण के ये सबसे कम नए मामले हैं। इससे पहले, देश में 16 अप्रैल को 24 घंटे में 2,17,353 नए […]

Note from Editor

At Bhartiya Samachar we're looking beyond the headlines to drive meaningful coverage that empowers the common man. Looking beyond the headlines, we want to connect across the country to issues that matters most. We explore the reality of hashtag politics and the statistics. We will unearth and bring the truth behind each story in order to promote global conscience.

Quick Links